Browsing Category : Poems

smartphone, alok verma

Smartphone

By | 0 Comments

रिश्तों के दृढ़ बंधन में कौन आ गया ? देखा तो जाना हाथो में स्मार्ट फ़ोन आ गया। शाम चाय पर होने वाली, वो बात रह गयी गरमी के रातों वाली, मुलाक़ात रह गयी चिट्ठी में आने वाला प्रेम, फ़ेल हो गया छोटी सी बात पर भी अब ईमेल हो गया क्या हो रहा है सामने? इसकी सुध नहि रहती…




Read More »
reservation, alokverma.in, alok verma

आरक्षण पर कविता

By | 1 Comment

यह कैसी विडम्बना यह कैसा अत्याचार है? जिसने की जी तोड़ पढ़ाई वह बैठा बेकार है प्रतियोगिता के काल में कोटा क्यों बना दिया? भारत की महान शिक्षा को छोटा क्यों बना दिया? यह हमारी कमज़ोरी है या समाज का विकार है? यह कैसी विडम्बना यह कैसा अत्याचार है? जिसने की जी तोड़ पढ़ाई वह बैठा बेकार है रचियता को…




Read More »
alok verma

मेरा देश महान है.. (On Kargil War 1999)

By | 1 Comment

छाती ठोक के केहता हु की मेरा देश महान है बस कपड़े के बने तिरंगे में अमर प्राण है । छाती ठोक के केहता हु की मेरा देश महान है .. मौका अच्छा पाकर दुश्मन घुस आया घर के अन्दर आया था सपने में की कश्मीर लेकर जायेगा लौट के अपने मुल्क में वापिस इज्ज़त बहुत कमाएगा बेचारे की किश्मत…




Read More »
savetrees, alokverma.in, alok verma

Darakhth

By | 2 Comments

ज़न्नत और कयामत के बीच, अब बस कुछ दरख्त खड़े है वोह हमसे बड़े या हम उनसे बड़े है… हमे आशिया देने को, कितने गुलशन तबाह हुए हमारी किश्तिय खेने को, कितने घर कुरबा हुए “होली”, “लोहड़ी” के नाम पे, कितने सपनो को राख किया खेती के लालच में, पुरे जंगल को खाक किया आज माज़रा यह है की, सांसो…




Read More »
alokverma.in, alok verma

Mitti Ki Kahani

By | 0 Comments

Mitti leke toadd liya sab dhelo* ko phod liya Mitti ko phir chaan liya Paani daal ke saan liya Chaak chalaya tezi se Haath hilaya tezi se Mitti ko aakar diya Do haantho.N ka pyar diya Phir Mitti chal di jalne ko Pakk ke pakki ban.ne ko Kaisi Mitti ki kaya hai Yu Jalke jeevan paaya hai Ab Mitti kaam…




Read More »
alok verma

Aaj phir woh aayi..

By | 0 Comments

Aaj phir woh aayi aur huske baat kar gayi Bechaini ke silsille ki shuruaat kar gayi Aaj phir woh aayi aur huske baat kar gayi Bade garv se mujhko apna dost kehti hai meri baatein sunn ke Muskuraati rahti hai usse milke mujhko kya kuch khona padta hai Nahi jaanti raat ko us din rona padta hai yahi haadsa aaj…




Read More »
ओश की एक बूँद, alok verma

ओश की एक बूँद….

By | 0 Comments

ओश की एक बूँद जैसे सूखे दिन के ताप से जम गए सब आंसू मेरे यु ही अपने आप से जो पड़ा है वज्र मुझपे तो मै गम को क्यों सहु रोते होंगे दुनिया वाले मै भी क्यों रोता रहू देखा मैंने काफी जीवन बात इतनी साफ़ है जो भी पाना जो भी खोना, करना अपने आप है बढ़ गए…




Read More »
alok verma

There was a Girl…

By | 10 Comments

There was a girl who was my friend She lived in my heart at the deeper end She was the fellow to whom I cared Betwixt us all sentiments were shared Her eyes were beautiful just like sea I knew she felt best with me I can’t forget her for a while And yes she got a lovely smile She…




Read More »

Licensed Sin

By | 0 Comments

Existence of Reservation is a foul way to win In the context of today it’s a licensed Sin Those who do less study, easily get the favour It’s a great disappointment for those who do labour We are living in India, a land of Educational Heritage But now our education is going to reserved wastage The creators have no knowledge…




Read More »

THE SECOND SUN

By | 0 Comments

One day at once the Sun rose No, not from the horizon, but from the mid city Sunbeams had fallen No, not from the sky, but from the burst Earth The shadow of Humans became directionless and spread everywhere It was fact that the Sun had not risen from the east that day It was thrown from the flying Machine…




Read More »