Monthly Archives : June 2006

alok verma

Aaj phir woh aayi..


Aaj phir woh aayi aur huske baat kar gayi Bechaini ke silsille ki shuruaat kar gayi Aaj phir woh aayi aur huske baat kar gayi Bade garv se mujhko apna dost kehti hai meri baatein sunn ke Muskuraati rahti hai usse milke mujhko kya kuch khona padta hai Nahi jaanti raat ko us din rona padta hai yahi haadsa aaj…



Read More »
alok verma

ओश की एक बूँद….


ओश की एक बूँद जैसे सूखे दिन के ताप से जम गए सब आंसू मेरे यु ही अपने आप से जो पड़ा है वज्र मुझपे तो मै गम को क्यों सहु रोते होंगे दुनिया वाले मै भी क्यों रोता रहू देखा मैंने काफी जीवन बात इतनी साफ़ है जो भी पाना जो भी खोना, करना अपने आप है बढ़ गए…



Read More »