Real Beauty, self awareness, self confidence, i am beautiful, alok verma

I am beautiful, so are You…


It’s been a friendship of almost 5 years now. So deep so connected and so magical. Siddhi will be turning 5 today, April 17th. It’s been an amazing journey with you so far. We played, we laughed and we cried together. Our life is completely changed since you came, and changed for good. In the rush of life, we sometimes…



Read More »
siddhi verma, alok verma

Bhagwaan Ji Pranam Kyon nahi Karte?


Children take everything in a very different fashion. Their understanding of our world is not so different from what an alien goes through in the PK movie of Aamir Khan. Siddhi never misses to surprise us every week with something so evolved or impressive or shocking. She is learning every day and learning very fast. The most beautiful truth about…



Read More »
diwali noise pollution, alok verma

Why Diwali is so Noisy?


Diwali holds a special place in our lives. Undoubtedly it is the most important festival of Hindus all over the world. A festival of lights and a celebration of victory of good over evil. A celebration of home-coming and family time. There are many other associations as well and all of them make Diwali even more special for all people of…



Read More »
alok verma

Smartphone


रिश्तों के दृढ़ बंधन में कौन आ गया ? देखा तो जाना हाथो में स्मार्ट फ़ोन आ गया। शाम चाय पर होने वाली, वो बात रह गयी गरमी के रातों वाली, मुलाक़ात रह गयी चिट्ठी में आने वाला प्रेम, फ़ेल हो गया छोटी सी बात पर भी अब ईमेल हो गया क्या हो रहा है सामने? इसकी सुध नहि रहती…



Read More »
alok verma

आरक्षण पर कविता


यह कैसी विडम्बना यह कैसा अत्याचार है? जिसने की जी तोड़ पढ़ाई वह बैठा बेकार है प्रतियोगिता के काल में कोटा क्यों बना दिया? भारत की महान शिक्षा को छोटा क्यों बना दिया? यह हमारी कमज़ोरी है या समाज का विकार है? यह कैसी विडम्बना यह कैसा अत्याचार है? जिसने की जी तोड़ पढ़ाई वह बैठा बेकार है रचियता को…



Read More »
alok verma

What’s Your Wet Weather Plan?


In my previous organization we conducted many corporate workshops every month, which kept us travelling all over the country quite often. While conducting a Great Workshop was a must for us, preparing and planning for the event was equally important. So when we planned and designed the main activities for any workshop, we also made something called “A Wet Weather Plan”.…



Read More »
alok verma

मेरा देश महान है.. (On Kargil War 1999)


छाती ठोक के केहता हु की मेरा देश महान है बस कपड़े के बने तिरंगे में अमर प्राण है । छाती ठोक के केहता हु की मेरा देश महान है .. मौका अच्छा पाकर दुश्मन घुस आया घर के अन्दर आया था सपने में की कश्मीर लेकर जायेगा लौट के अपने मुल्क में वापिस इज्ज़त बहुत कमाएगा बेचारे की किश्मत…



Read More »
alok verma

Darakhth


ज़न्नत और कयामत के बीच, अब बस कुछ दरख्त खड़े है वोह हमसे बड़े या हम उनसे बड़े है… हमे आशिया देने को, कितने गुलशन तबाह हुए हमारी किश्तिय खेने को, कितने घर कुरबा हुए “होली”, “लोहड़ी” के नाम पे, कितने सपनो को राख किया खेती के लालच में, पुरे जंगल को खाक किया आज माज़रा यह है की, सांसो…



Read More »